सागर तट की लहर से बातचीत

सागर का किनारा बडे असंमजस में था. वो रोज सोचता था कि ये लहर बहन ऐसा क्युं करती है? पर शिष्टाचार वश चुप रह जाता था.waves-kinara

आज उससे रहा नही गया और लहर के आते ही पूछ बैठा – बहन, मुझे एक बात समझ नही आती की तुम आती हो और तुरंत लौट जाती हो? आखिर बात क्या है? जो तुम हमेशा इतनी हडबडी मे रहती हो? अरे अब आई हो भाई के पास..तो दो  घडी बैठो..कुछ अपनी सुनाओ..कुछ मेरी सुनो.

लहर बोली – भैया आप बात तो सही कह रहे हो.  पर अगर मैं ठहर गई तो मेरा जीवन ही समाप्त हो जायेगा. इसलिये यह जरुरी है कि आने जाने का क्रम सुचारु रुप से चलता रहे.  गति ही मेरा जीवन है और जिस पल ठहर गई..उसी पल मेरी मृत्यु है.

लहर आगे बोलने लगी – भैया आप देखो ना, जब तक पानी अपनी धारा मे बहता रहता है उसको स्वच्छ नीर के नाम से बुलाया जाता है. और जहां उसका बहना बंद हुआ कि वो बदबू मारने लग जाता है.

इस सागर तट और लहर की बातचीत से यही लगता है कि जीवन प्रवाहमान होना चाहिये.  इस संसार मे ग्रह नक्षत्र नदियां सभी कुछ तो प्रवाहमान है. जहां इनकी गति रुकी की सब कुछ खत्म.

हमारे जीवन मे भी दुख सुख के रोडे आते ही रहते हैं पर इनसे घबराये बिना हमको जीवन पथ पर अबाध गति से आगे बढते रहना चाहिये.

मग्गा बाबा का प्रणाम.

6 comments:

  अन्तर सोहिल

27 May 2009 at 18:12

अन्दर आई सांस सुख और बाहर गई सांस दुख
अन्दर आई सांस को रोक कैसे सकते हैं….।…।
सांस अगर ठहर जाये तो ??????

  राज भाटिय़ा

28 May 2009 at 01:26

वाह क्या बात है, लेकिन ...
बहुत सुंदर
राम राम जी की

  Smart Indian - स्मार्ट इंडियन

28 May 2009 at 07:19

बिलकुल सही कहा आपने. मग्गा बाबा की जय!

  अभिषेक ओझा

28 May 2009 at 19:47

सत्य वचन !
बहता पानी निर्मला, पड़ा गंदिला होय !
बहता पानी निर्मला, साधु तो रमता भला !

  Basanta

4 June 2009 at 11:13

Beautiful depiction of life! And very inspirational too!

  PGDCA University of Allahabad

10 June 2009 at 15:56

जब तक पानी अपनी धारा मे बहता रहता है उसको स्वच्छ नीर के नाम से बुलाया जाता है. और जहां उसका बहना बंद हुआ कि वो बदबू मारने लग जाता है.

SACHMUCH...
YAHI JIVAN KA SATYA HAI..
KAHA BHI GAYA HAI KI.
"JEEVAN CHALNE KA NAAM, CHALTE RAHO SUBHAH O SHAM"
"GADI BULA RAHI HAI SEETI BAJA RAHI HAI,
CHALNA HI JINDAGI HAI CHALTI HI JA RAHI HAI"

Followers